Showing posts from January, 2018Show all

Village boy story part 5

नमस्कार दोस्तों कैसे है चलो आगे बढ़ते है उम्मीद है आप पूरा  पढ़ चुके होंगे राज की प्राइमरी शिक्षा तो हो गयी अब आगे जैसे मिडल में  एड्मिशन हुआ कुछ नया सा हुआ क्योकि गांव में सिर्फ प्राइमरी स्कूल था मिडल स्कूल के लिए गांव से बाहर जाना पड़ता मिडल स्कूल कही कही होता था उसे खोलने का क्या नियम होता है मुझे…

Read more

Janana jaruri hai

Dear friends different hai but जरुरी है भारत की टेबल टेनिस खिलाड़ी नैना जैसवाल का देशप्रेम वाकई,,,, आप सब के लिए, अपने बच्चों को इस   के बारे मे जरूर बताए उभरती युवा देश के लिए क्या सन्देश देती है आप भी आखिरी में जो बात कही हैं ना सच आप दीवाने हो जायेंगे  जैसे  मेरे से रहा नहीं गया कुछ तो बात होगी जो अभी स्टूडेंट वो इस…

Read more

Part 4

Hello friends Ab aage badte hai Buchanan to bachpan hota kisi ka bhi achchha hi lagta hai zindagi me her koi hamesha bachpan me jana chahta hai. Kass yesa hota? Aage raj ne school me admission Liya jaise ki a Apko Pata hai Buchanan me sanskar achchhe ho to bachchha hosiyar hi hota hai raj bhi hosiyar hi tha. Primary m…

Read more

Village story

नमस्ते दोस्तों कैसे है, एक कोशिश है कुछ लिखने की आप comments जरूर करे जिसे ओर बेहतर बनाया जा सके | चलो  बढ़ते हैं - राज बचपन से सीधा साधा लड़का था उसे जितने की आदत थीं हर पल वो समाज से सिखने लगा रहता उसके सामने जो  भि  घटनाए होती हमेशा positiveपोसिटिव  सीखता इन सब के लिए पिताजी उसे कहते पिता भी गांव का इज्जतदार व्यक…

Read more

My life part 2

नमस्ते दोस्तों स्वागत है नए एपिसोड मे अब तक हमने बचपन की कहानी जान रहे थे जो किसी को याद नहीं होती सिर्फ बड़े होने पर सुनाई जाती है  इसी के आधार पर पता होता है की किसी का बचपन   कैसा था  जैसे राज बड़ा हुआ बचपन की यादो में उसे इतना पता है की दादी के साथ वह नॉनवेज खाया करता था दादी चल बसी थी सब परिवार भी सेपरेट हो गया था …

Read more

My life part 1

नमस्ते दोस्तो एक कहानी राज की आपका स्वागत करता है ये कहानी उस लड़के कि है जो उस गांव में पैदा हुआ  जहा पर कोई  बात कई दशको  बाद  पता  चलता  था जैसे शहर में  कोइ घटना  1970 में हुआ तो गांव में 1985 तक लोगोको पता चले  फिर भीं इतना पीछे चलने के बाद भी  एक परिवार  थोड़ा  एडवांस  था कारन की उस  समय  में  उसके  नानाजी  गांव  …

Read more